Right click unusable

आत्मत्राण सरलार्थ सहित

Aatmatran with meaning
- रवींद्रनाथ ठाकुर

सरलार्थ
जाँच
ONLINE TEST
अन्य सामग्री




          विपदाओं (मुसीबतों, विपत्तियों ) से मुझे बचाओयह मेरी प्रार्थना नहीं
                            केवल इतना हो करुणामय (दूसरों पर दया करनेवाले, प्रभु) -
                            कभी न विपदा में पाऊँ भय।  
          दुःख-ताप (कष्ट की पीड़ा)से व्यथित(अशांत, दुःखी) चित्त (हृदय) को न दो सांत्वना (हिम्मत बंधाना) नहीं सही
                           पर इतना होवेकरुणामय-
                           दुख को मैं कर सकूँ सदा जय।
                           कोई कहीं सहायक (सहायता करनेवाला)  न मिले
                           तो अपना बल पौरुष (पराक्रम) न हिले-
          हानि उठानी पड़े जगत् में लाभ अगर वंचना(धोखा) रही
                           तो भी मन में ना मानूँ क्षय(नाश)।।
          मेरा त्राण(मुक्ति) करो अनुदिन(प्रत्येक दिन) तुम यह मेरी प्रार्थना नहीं
                            बस इतना होवेकरुणायम-
                            तरने की हो शक्ति अनामय (पार पाने का असीम सामर्थ्य हो)
          मेरा भार अगर लघु (कम) करके न दो सांत्वना(हिम्मत बँधाना) नहीं सही।
                            केवल इतना रखना अनुनय(कृपा) -
                            वहन(निभा) कर सकूँ इसको निर्भय(बिना किसी डर के) ।
                            नत शिर (सिर झुकाकर) होकर सुख के दिन में
                            तव(तुम्हारा) मुख पहचानूँ छिन-छिन(प्रत्येक क्षण) में।
          दुःख-रात्रि (दुःख से भरा समय/ रात) में करे वंचना (धोखा) मेरी जिस दिन निखिल(सम्पूर्ण) मही(धरती) 
                            उस दिन ऐसा हो करुणामय,
                            तुम पर करूँ नहीं कुछ संशय(सन्देह) ।।


                                                                                                                        अनुवाद : हजारीप्रसाद द्विवेदी
*********
© Rights Reserved, www.hindiCBSE.com

 आभार: एनसीइआरटी (NCERT) Sparsh Part-2 for Class 10 CBSE

कोई टिप्पणी नहीं: