Right click unusable

स्वर संधि

SWAR SANDHI    
संधि का अर्थ:- मेल। दो वर्णों का मेल संधि कहलाता है।
संधि विच्छेद:- संधि के नियम के अनुसार मिले हुए वर्णाें को अलग-अलग करना।

स्वर संधि   :- पहले शब्द के अंतिम स्वर और दूसरे शब्द के प्रथम स्वर का मेल।
               उदाहरणतः   हिम + आलय  - हिमालय
                                        + 
कोर्स में 4 भेद हैः -  
  1. दीर्घ संधि
  2. गुण संधि
  3. यण संधि   
  4. वृद्धि संधि   


   पाँचवा भेद हैअयादि संधि 

 1. दीर्घ संधि:-    के बाद इन्हीं का हस्व (छोटाया दीर्घ (बड़ास्वर  आए तो मिलकर उसका दीर्घ  स्वर  हो जाता है।  जैसे:-
 +   -              परम  + अणु             -    परमाणु
 +  -              पुस्तक + आलय       -    पुस्तकालय
 +  -              सेवा + अर्थ               -    सेवार्थ
 +  -              महा + आत्मा           -    महात्मा

 +  -                 रवि + इन्द्र                  -    रवीन्द्र
 +  -                 परि + ईक्षा                  -    परीक्षा
 +  -                 मही + इन्द्र                 -    महीन्द्र
 +  -                 रजनी+ईश                   -    रजनीश 

 +  -                भानु+उदय                   -    भानूदय
 +  -                सिंधु+ऊर्मि                   -    सिंधूर्मि
 +  -                वधू+उत्सव                   -    वधूत्सव
 +  -               भू + ऊर्जा                     -    भूर्जा


2. गुण संधि:-   नियम-/ के बाद / आए तो इनका मिलकर "" हो जाता है।
                       नियम-/ के बाद / आए तो इनका मिलकर  ""  हो जाता है।
                       नियम--  / के बाद   आए तो इनका मिलकर "अर्"  हो जाता है।

उदाहरणतः

                        नियम-/ के बाद / -    
                                          भारत + इंदु     -    भारतेंदु
                                           महा  + इंद्र      -    महेन्द्र

                        नियम-/ के बाद /  - ‘ 
                                           सूर्य + उदय      -    सूर्योदय

                        नियम--  / के बाद   - ‘अर्
                                          देव + ऋषि      -    देवर्षि


3.  वृद्धि संधि:- नियम-1  जब / के बाद / आएँ तो दोनों के स्थान पर  हो जाता हैं 
                        नियम-2  जब / के बाद / स्वर आएँ तो दोनों के स्थान पर  हो जाते हैं 

उदाहरणतः
                       नियम-1 -  /  +  /   -      
                                             एक  एक      -    एकैक
                                             सदा  एव      -    सदैव

                       नियम-2    / + /       -   
                                              महा + औषध      -    महौषध
                                              परम + औज       -    परमौज


4 .  यण संधि:-   नियमः-1    / के बाद कोई भिन्न स्वर आए तो  /  का य् हो जाता है।
                          नियमः-2    / के बाद कोई भिन्न स्वर आए तो /  का व् हो जाता है।
                          नियमः-3     के बाद कोई भिन्न स्वर आए तो  का  हो जाता है।


उदाहरणतः
                             नियमः-1    / + भिन्न स्वर  -  /  का य्
                                              यदि + अपि             -   यद्यपि
                                              प्रति + एक              -   प्रत्येक
                                             उपरि + उक्त            -  उपर्युक्त


                             नियमः-2  / + भिन्न स्वर  -  /  का व्
                                               अनु + एषणअन्वेषण
                                                  न्  व् +ए़ वे


                            नियमः-3   भिन्न स्वर -   का 
                                              पितृ+अनुमति  - पित्रानुमति

(विशेषयहाँ त् में  स्वर है और अनुमति का  इसके बाद आया है। इसलिए जब  नियम के अनुसार ‘में बदल गया तो यह त् के साथ मिलकर संयुक्ताक्षर त्र बना। ध्यान रहे यह ‘’ हलन्त युक्त नहीं है। इसलिए त्र-त्+र्+ है। तो इस त्र का  और अनुमति का  दोनों मिलकर  हो गए और त्र अब   लगने पर त्रा हो गया)


*********

कोई टिप्पणी नहीं: