Right click unusable

अनौपचारिक-पत्र (निजी पत्र)







अनौपचारिक-पत्र (निजी पत्र)

परीक्षा भवन,           
00.00.2015

पूज्य पिताजी,
   
सादर चरण - स्पर्श
   
कल आपका पत्र मिला। आप मेरी आगामी परीक्षाओं के परिणाम को लेकर चिन्तित न हों। मैं नियमित रूप से कठिन परिश्रम कर रहा हूँ ।
    आपका भी चिन्तित होना स्वाभाविक ही है। परन्तुमैं आपको विश्वास दिलाता हूँ कि गत वर्षों की तरह इस वर्ष भी सम्मानजनक परिणाम प्राप्त कर पाऊँगा। मैं अपने कार्य व प्रयास में नियमित हूँ और सभी विषयों को समान महत्व दे रहा हूँ। विद्यालय में सभी विषयों के पाठ्यक्रम पूरे हो चुके हैं। मैं घर पर उन्हें दुहरा रहा हूँ। थो़ड़ा भी सन्देह होने पर तुरन्त अध्यापकों से सम्पर्क कर लेता हूँ। गणित में अवश्य मुझे कुछ कठिनाई हो रही है किन्तु मुझे आशा है कि मैं समय रहते उन्हें सुलझा लूँगा। मैंने गत वर्षों के प्रश्न-पत्र खरीद लिए हैं और उन्हें हल करके अपने अध्यापकों से जँचवा भी लेता हूँ। मेरे सभी अध्यापक मुझसे प्रसन्न हैं और उन्हें भी मुझसे बहुत अच्छा किए जाने की आशा है।

   आशा हैवहाँ आका की पढ़ाई भी अच्छी चल रही होगी। यहाँ शेष कुल है। आदरणीया माताजी को सादर प्रणाम व आका को प्यार।

आपका आज्ञाकारी

क ख ग
********

संवेदना - पत्र (असामयिक मृत्यु)

9/7 अबस काॅलोनी
बसअ नगर
00.00.00

प्रिय मित्र . . . . . . . . . . .  ,

सादर नमस्कार !

तुम्हारे . . . . . . . . . . .  जी के असामयिक निधन के बारे में जानकर मैं और परिवार स्तब्ध एवं शोकमग्न है।

मैं बहुत भाग्यशाली हूँ कि तुम्हारा मित्र होने के नाते उनका असीम स्नेह मुझे सदा ही मिलता रहा है। वे मुझे भी तुम्हारी तरह मानकर जीवन के आदर्शों  की शिक्षा और अपनत्व दिया करते थे। उनका असामयिक निधन अपूरणीय क्षति है।

विधाता के विधान के आगे सब विवश हैं। शोक के इस अवसर पर स्वयं धैर्य रखकर अपनी/अपने . . . . . . . . . . .  और परिवार के अन्य सदस्यों को हिम्मत प्रदान करो।

मैं और मेरा परिवार ईष्वर से उनकी आत्मा की शांति और तुम्हें इस असहनीय दुःख को सहन करने का सामर्थ्य प्रदान किए जाने की प्रार्थना करते हैं।

हार्दिक संवेदनाओं सहित

तुम्हारा/ आपका
कखग कुमार

******

निमंत्रण पत्र

9/7 अबस काॅलोनी
बसअ नगर
00.00.00

प्रिय   . . . . . . . . . . .  ,

सस्नेह नमस्कार!

मेरा जन्मदिन 00 दिसम्बर 00  को है और मैं तुम्हें अपने जन्मदिवस पर सप्रेम आमंत्रित कर रहा हूँ। तुम्हें इस अवसर पर अवश्य ही आना है। यदि तुम समय से पूर्व ही आ जाआगेे तो मुझे बहुत प्रसन्नता होगी ।

इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम इस प्रकार हैं -
हवन एवं पूजा             :    सायं 4 बजे
नृत्यसंगीत व अन्य कार्यक्रम:    रात्रि 7 बजे
केक काटना               :    रात्रि 8 बजे
सहभोज                  :    रात्रि 8.30 बजे से 10.30 तक।
समारोह स्थल            :    अशोक वाटिकाहनुमान गलीकखग नगर

प्रतीक्षा में

तुम्हारा मित्र
कखग कुमार

******

जन्मदिवस पर शुभकामना पत्र

9/7 अबस काॅलोनी
बसअ नगर
00.00.00

प्रिय मित्र . . . . . . . . . . .  ,

सस्नेह नमस्कार !

तुम्हारे जन्मदिवस का स्नेहपूर्ण आमंत्रण पत्र मिला।

जन्मदिवस की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकानाएँ। परमपिता से प्रार्थना है कि तुम्हें वह सदा स्वस्थसुखीप्रसन्न और दीर्घायु बनाए रखे और तुम्हें अपने सपनों को साकार करने का अवसर प्रदान करे।

   दुःख है कि मेरी अपूर्व इच्छा होने के बावजूद भी तुम्हारे जीवन के इस अमोल अवसर पर परिस्थितिवश उपस्थित नहीं हो सकूँगा। मेरी आत्मिक भावनाएँ सदैव तुम्हारे साथ हैं। इस पत्र के साथ छोटा-सा उपहार अपनी भावनाओं की अभिव्यक्ति के प्रतीकात्मक रूप में संलग्न है। आशा है, तुम्हें पसन्द आएगा।

एक बार फिर से जन्म दिवस की हार्दिक बधाई ।

तुम्हारा मित्र

कखग कुमार

कोई टिप्पणी नहीं: