Right click unusable

समास

SAMAAS

दो शब्दों का मेल समास कहलाता है। जैसे विद्यालय में दो शब्द है विद्या एवं आलय  विद्या का अर्थ होता है ज्ञान और आलय का घर।यहाँ दोनों मिलकर नया अर्थ विद्या का घर दे रहे हैं।

सामासिक पद:-  दो पदों के मिलने से बनने वाला शब्द सामासिक पद कहलाता है। यहाँ विद्यालय     सामासिक पद है।

विग्रह :-  सामासिक पद में से दोनों पदों को अलग-अलग करके आपसी संबंध बताते हुए लिखना, ‘विग्रह कहलाता है। विद्या का घर समास का विग्रह है।              

भेद      समास के छः भेद हैं 
                        1.  अव्ययीभाव समास
                        2.   तत्पुरुष समास
                        3.   कर्मधारय समास
                       4.     द्विगु समास
                       5.    द्वंद्व समास
                       6.    बहुव्रीहि समास

1- अव्ययीभाव समास
                          पूरा पद अव्यय (अपरिवर्तनशील) होता है  

(क)       यथा से प्रारंभ होने वाले-
जैसे -
    यथासंभव        संभावना के अनुसार
यथासमय                 समय के अनुसार
यथाशक्ति                शक्ति के अनुसार।

(ख)      प्रति से शुरू होने वाले - 
जैसे -
प्रतिदिन                   प्रत्येक दिन
प्रतिमाह                  प्रत्येक माह
प्रतिवर्ष                    प्रत्येक वर्ष  

() दोहराव वाले शब्द-
जैसे -                            
घर-घर                   हर /प्रत्येक घर
रातोंरात                 रात ही रात में
दिनोंदिन                प्रत्येक दिन
गाँव-गाँव                हर / प्रत्येक गाँव   


(घ)  ‘ से शुरू हाने वाले -
जैसे -         
आमरण                   मरण तक
आजीवन                  जीवन तक

2-  तत्पुरुष समास

                      (क) दूसरे शब्द का महत्व होता है 
                      (ख) दोनों के बीच कारक-चिह्न होता है 
जैसे -     
जेबकतरा               जेब काटने वाला
भुखमरा                  भूख से मरा
सेनापति                 सेना का पति
हस्तलिखित            हस्त से लिखित
सत्याग्रह                 सत्य के लिए आग्रह
भयभीत                  भय से भीत
शरणागत                शरण में आगत
स्वर्गगत                  स्वर्ग को गत

3- कर्मधारय समास
                (क) पहला पद विशेषण और दूसरा विशेष्य होता है।
                                              या
                (ख) दोंनों पदों में किसी की किसी से तुलना की जाती है।
जैसे -
नीलकमल                नीला है जो कमल
महात्मा                    महान है जो आत्मा
हंसमुख                     हंसता हुआ है जो मुख
महापुरुष                   महान है जो पुरुष
प्रधानाध्यापक           प्रधान है जो अध्यापक
चंद्रमुख                     चंद्रमा के समान मुख
कमलनयन               कमल के समान नयन
क्रोधाग्नि                  क्रोध रूपी अग्नि
मृगलोचन                 मृग के समान लोचन
वचनामृत                  वचन रुपी अमृत

4- द्विगु समास
                         पहला शब्द कोई संख्या को बताता हो  -   
 जैसे -                           
द्विगु                    दो गायों का समाहार
त्रिकोण                  तीन कोणों का समाहार
चवन्नी                  चार आनों का समाहार
पंचामृत                 पांच अमृतों का समाहार
सप्तर्षि                  सात ऋषियों का समाहार
अष्टाध्याय            आठ अध्यायों का समाहार
नवरत्न                 नौ रत्नों का समाहार
दशानन                 दस आननों का समाहार 

5- द्वंद्व समास
                      (क) दोनों पद महत्वपूर्ण  
                      (ख) दोनों के बीच में अधिकतर योजक का प्रयोग
 जैसे -                              
सुख-दुःख                        सुख और दुःख
लव-कुश                         लव और कुश
दाल-चावल                     दाल और चावल
जीवन-मृत्यु                    जीवन और मृत्यु
भीमार्जुन                        भीम और अर्जुन


6- बहुव्रीहि समास
                     जो शब्द किसी विशेष वस्तु या व्यक्ति के लिए प्रसिद्ध हों    
जैसे -
गजानन          -           गज के समान आनन है  जिसका अर्थात् गणेश
आशुतोष         -           जो थोड़े में संतुष्ट हो जाता है अर्थात् शिव 
घनश्याम        -            घन के समान श्याम है जो अर्थात् कृष्ण
वीणापाणि      -            वीणा है जिसके  (पाणि) हाथ में अर्थात् सरस्वती 
चतुर्भुज          -            चार है भुजाएँ जिसकी अर्थात् विष्णु 
दशानन          -            दस हैं आनन जिसके अर्थात् रावण
बारहसिंहा(बारहसिंगा)  -  बारह सींग हैं जिसके अर्थात् एक विशेष पशु

                                     * यह आना चाहिए *

समस्त पद बनाना, विग्रह करना, दोनों ही स्थितियों में भेद बताना 

6 टिप्‍पणियां:

Unknown ने कहा…

This is a very important site for learners. Please make exercises either printable or allow it to be downloaded.

jaspreet ने कहा…

Best site I have ever seen for learning and understanding hindi for my 10th study

बेनामी ने कहा…

Nice

Neha ने कहा…

Very good web site for students 👌🏻👌🏻

Unknown ने कहा…

excellent website for students....lot of information, nicely presented, loads of practice...thank you so much

appasaheb naik ने कहा…

very good for student