समास


दो शब्दों का मेल समास कहलाता है।

जैसे:-

        विद्यालय में दो शब्द है विद्या एवं आलय ।

        -    विद्याका अर्थ होता है ज्ञानऔर आलयका घर

        -     यहाँ दोनों मिलकर नया अर्थ विद्या का घरदे रहे हैं।

 

सामासिक पद:-  दो पदों के मिलने से बनने वाला शब्द सामासिक पदकहलाता है। यहाँ विद्यालयसामासिक पद है।

 

विग्रह :-  सामासिक पद में से दोनों पदों को अलग-अलग करके आपसी संबंध बताते हुए लिखना, ‘विग्रहकहलाता है। विद्या का घरसमास का विग्रह है।             

 

भेद    :   समास के छः भेद हैं

                        1.  अव्ययीभाव समास

                        2.   तत्पुरुष समास

                        3.   कर्मधारय समास

                       4.     द्विगु समास

                       5.    द्वंद्व समास

                       6.    बहुव्रीहि समास

 

1- अव्ययीभाव समास

                          पूरा पद अव्यय (अपरिवर्तनशील) होता है ।

 

(क)       यथासे प्रारंभ होने वाले-

जैसे -

यथासंभव         -       संभावना के अनुसार

यथासमय         -       समय के अनुसार

यथाशक्ति         -       शक्ति के अनुसार।

 

(ख)      प्रतिसे शुरू होने वाले -

जैसे -

प्रतिदिन         -          प्रत्येक दिन

प्रतिमाह        -         प्रत्येक माह

प्रतिवर्ष         -          प्रत्येक वर्ष 

 

(ग) दोहराव वाले शब्द-

जैसे -                           

घर-घर      -       हर /प्रत्येक घर

रातोंरात    -       रात ही रात में

दिनोंदिन   -       प्रत्येक दिन

गाँव-गाँव  -       हर / प्रत्येक गाँव  

 

 

(घ)  से शुरू हाने वाले -

जैसे -        

आमरण    -       मरण तक

आजीवन  -       जीवन तक

 

2-  तत्पुरुष समास

 

                      (क) दूसरे शब्द का महत्व होता है ।

                      (ख) दोनों के बीच कारक-चिह्न होता है

जैसे -    

जेबकतरा  -       जेब काटने वाला

भुखमरा    -       भूख से मरा

सेनापति    -       सेना का पति

हस्तलिखित-     हस्त से लिखित

सत्याग्रह   -       सत्य के लिए आग्रह

भयभीत    -       भय से भीत

शरणागत  -       शरण में आगत

स्वर्गगत    -       स्वर्ग को गत

 

3- कर्मधारय समास

                (क) पहला पद विशेषण और दूसरा विशेष्य होता है।

                                              या

                (ख) दोंनों पदों में किसी की किसी से तुलना की जाती है।

जैसे -

नीलकमल -       नीला है जो कमल

महात्मा     -       महान है जो आत्मा

हंसमुख     -       हंसता हुआ है जो मुख

महापुरुष   -       महान है जो पुरुष

प्रधानाध्यापक- प्रधान है जो अध्यापक

चंद्रमुख     -       चंद्रमा के समान मुख

कमलनयन-       कमल के समान नयन

क्रोधाग्नि   -       क्रोध रूपी अग्नि

मृगलोचन  -       मृग के समान लोचन

वचनामृत   -       वचन रुपी अमृत

 

4- द्विगु समास

                         पहला शब्द कोई संख्या को बताता हो  -  

 जैसे -                          

द्विगु          -       दो गायों संबंधी / दो गायों का समाहार

त्रिकोण     -       तीन कोणों का समाहार

चवन्नी      -       चार आनों का समाहार

पंचामृत     -       पाँच अमृतों का समाहार

सप्तर्षि       -       सात ऋषियों का समाहार

अष्टाध्याय -        आठ अध्यायों का समाहार

नवरत्न      -       नौ रत्नों का समाहार

दशानन     -       दस आननों का समाहार ।

 

5- द्वंद्व समास

                      (क) दोनों पद महत्वपूर्ण 

                      (ख) दोनों के बीच में अधिकतर योजक का प्रयोग

 जैसे -                             

सुख-दुःख -       सुख और दुःख

लव-कुश   -       लव और कुश

दाल-चावल-     दाल और चावल

जीवन-मृत्यु-      जीवन और मृत्यु

भीमार्जुन   -       भीम और अर्जुन

 

 

6- बहुव्रीहि समास

                     जो शब्द किसी विशेष वस्तु या व्यक्ति के लिए प्रसिद्ध हों   

जैसे -

गजानन     -       गज के समान आनन है  जिसका अर्थात् गणेश

आशुतोष   -       जो थोड़े में संतुष्ट हो जाता है अर्थात् शिव

घनश्याम   -       घन के समान श्याम है जो अर्थात् कृष्ण

वीणापाणि-      वीणा है जिसके  (पाणि) हाथ में अर्थात् सरस्वती

चतुर्भुज     -       चार है भुजाएँ जिसकी अर्थात् विष्णु

दशानन     -       दस हैं आनन जिसके अर्थात् रावण

बारहसिंहा(बारहसिंगा) -  बारह सींग हैं जिसके अर्थात् एक विशेष पशु

 

* यह आना चाहिए *

 समस्त पद बनाना, विग्रह करना, दोनों ही स्थितियों में भेद बताना ।

********

8 टिप्‍पणियां:

Unknown ने कहा…

This is a very important site for learners. Please make exercises either printable or allow it to be downloaded.

jaspreet ने कहा…

Best site I have ever seen for learning and understanding hindi for my 10th study

बेनामी ने कहा…

Nice

Neha ने कहा…

Very good web site for students 👌🏻👌🏻

Unknown ने कहा…

excellent website for students....lot of information, nicely presented, loads of practice...thank you so much

appasaheb naik ने कहा…

very good for student

sona ने कहा…

Best site I have ever seen for learning and understanding hindi for 10th study

कमलेश राज्याण

sona ने कहा…

अति उत्तम कृपया कार्य आगे भी जारी रखे ।
कमलेश राज्याण